Friday, October 5, 2007

चाणक्य निति

१. मूर्ख को ज्ञान दे कर, बूरी पत्नी के साथ , और नगण्य से अत्यधिक मित्रता से एक पंडित भी गहरे दुःख का अह्शाश करता है ।
२. वैसे देश मे न रहना जहा तुम्हारा आदर न हो, तुम अपनी जीविका न कमा सको , जहा तुम्हारा कोई दोस्त न हो या जहाँ ज्ञान प्राप्ति न हो।
३. बुद्धिमान व्यक्ति कभी वैसे देश नही जाते जहा आजीविका का कोई साधन न हो , जहा लोगो को किसी का दर न हो, जहाँ शर्म का अह्शाश न हो, कोई ज्ञान न हो और परोपकारी प्रवृति न हो।
४. कभी इन्हें अपना विश्वाश न दे, लाब्लाबती नदी, सस्त्रधारी व्यक्ति, सींग या पंजे वाले जानवर, अतिसुन्दर कन्या और शाही परिवार के सदस्य।
५ स्त्रियों मे पुरुषों के मुकाबले दोगुनी भूख, चर्गुनी शर्म, छःगुनी
निर्भीकता और आठ्गुनी कामुतेजना होती है।
६ आज्ञाकारी संतान, प्रेम करने वाली अच्छे आचरण वाली पत्नी और अपने धन से संतुस्ट व्यक्ति के लिए धरती पर ही स्वर्ग है ।

2 comments:

Sumit said...

क्या चाणक्य निति के सभी पंक्तियाँ अपने blog पे डाल सकते हो? बड़ी कृपा होगी |

Hemant said...

i love